..... कुछ बूँदें मेरे मन के सागर से

ऐ जिंदगी मुझे कहाँ ले आई तू !!

ऐ जिंदगी मुझे कहाँ ले आई तू,
मंजिलो की तलाश में भंवरा बन,
इस डगर उस गली मंदरायी तू
कभी गम के अँधेरे बनकर छायी तू ,
तो कभी ख़ुशी के आंसू बनकर,
आँखों से छलक आई तू
कभी हार से मात खायी तू ,
तो कभी जीत का विश्वास बनकर आई तू
कभी निराशाओं से डरकर घबरायी तू ,
तो कभी आशाओ के इन्द्रधनुष
बनकर निकल आई तू
ऐ जिंदगी मुझे कहाँ ले आई तू ,
मंजिलो की तलाश में भंवरा बन ,
इस डगर उस गली मंदरायी तू

8 comments:

मनोज कुमार said...

यहां अभिव्यक्ति की स्पषटता प्रमुख है।

vedvyathit said...

dooriyan mit jayengi sb jidgi ki dor se
njdikiyan bn jayengi sb jindgi ki door se
dor kchchi hai ydi to bhut pkki jindgi
jndgi bndh jayegi jb jindgi ki dor se

bhut sari bdi ksme tod deti jindgi
todne me hi ksm ko tut jati jindgi
pr ksm khaye bina hi jindgi chl jaye to
or kya is se bdi khaye ksm ye jindgi

aaj yhan kl dera khan jindgi ka
teri meri to pridhi pr ghera khan jindgi ka
vh annt ki simaon se bhut door tk jati hai
isi liye pichha krta main firta roj jindgi ka

bnjare ki trh jindgi din2 bhtki meri
subh khin thi rat khin thi khin duphri meri
yh schchai thi jivan ki chlna mujh ko ntha hi
kaise hl krta apni main jivn kthin pheli

dr.vedvyethit@gmail.com
http://sahityasrajakved.blogspot.com

kripya mukton pr kuchh mere blog ya email pr khen

अनिल कान्त : said...

ज़िंदगी के कई मायने होते...
आपकी रचना बहुत अच्छी है

neha said...

@vedvyathit : आपकी पंक्तिया पढ़ते ही मेरे मन में ये कुछ पंक्तियाँ आयीं है जो मैं यहाँ लिख रही हूँ ...

तू ज़िन्दगी का बन, ये ज़िन्दगी तेरी बन जाएगी,
इसका हर पल जिंदादिली से जीता जा ,
ये ज़िन्दगी युहीं कट जाएगी |

मत भाग इसके पीछे तू , न ज़िन्दगी को पीछे छोड़,
गर तू चलेगा साथ इसके ये साथ तेरा निभाएगी
तू ज़िन्दगी का बन, ये ज़िन्दगी तेरी बन जाएगी |

neha said...

@मनोज कुमार : dhanyavaad
@अनिल कान्त: dhanyavaad

योगेश स्वप्न said...

sunder rachna. abhivyakti.

Monika said...

Hey Neha ,You have witten it so nicely..Keep up the good work!!

संजय भास्कर said...

बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

संजय कुमार
हरियाणा
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

Post a Comment

 

About Me

My photo
..Discovering within... ;) Well I have completed my Integrated B.Tech-M.Tech (Biotech) and now working as CSIR-SRF in BIT, Mesra.Though I am very naive to write poems, but I found this medium the best to express the feelings (mine as well as others). So your valuable suggestions/comments are most welcome :-)

Followers